You are here:  / रीवा / मानव सेवा ही राष्ट्र धर्म : डॉ ज्ञानवती अवस्थी

मानव सेवा ही राष्ट्र धर्म : डॉ ज्ञानवती अवस्थी

सरस्वती शिशु मंदिर निराला नगर रीवा में मनाया गया राष्ट्रीय युवा दिवस” (नेहरू युवा केन्द्र रीवा द्वारा किया गया आयोजन ) “मानवता की सेवा ही भगवान की सेवा हैं जिसके लिए त्याग आवश्यक हैं बिना मानव सेवा के ईश्वर की प्राप्ति सम्भव नही यही स्वामी विवेकानंद जी के मूल वचन थे।” उक्त उद्बोधन मुख्य अतिथि विदुषी डॉ ज्ञानवती अवस्थी जी के थे जो वे नेहरू युवा केन्द्र रीवा युवा कार्यक्रम खेल मंत्रालय भारत सरकार द्वारा सरस्वती शिशु मंदिर निराला नगर में आयोजित राष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर बोल रही थी उन्होंने कहा कि सर्वधर्म सम्मेलन में स्वामी जी ने अपने विचारों से भारतीय संस्कृति को स्थापित करने का कार्य किया उनका कहना था कि विश्व मे भारती संस्कृति ही सर्वोपरी हैं।
इससे पूर्व अध्यक्षता कर रहे राज्य निदेशक नेहरू युवा केन्द्र संगठन मध्यप्रदेश भोपाल श्री टी एन मिश्रा जी ने कहा कि विंध्य संस्कारधानी हैं बच्चे कच्ची मिट्टी से बने हैं इन्हें सही आकार देना हैं जो स्वामी जी के आदर्शों पर चल कर ही सम्भव है केवल शिष्य से ही भारत की संस्कृति को सर्वश्रेष्ठ बनाने का कार्य किया जा सकता हैं उन्होंने केंद्र द्वारा संचालित गतिविधियों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि प्रधानमंत्री जी द्वारा चलाये जा रहे युवा संसद कार्यक्रम में 18-25 वर्ष के युवा केन्द्र से जुड़कर राष्ट्र निर्माण में अपनी भूमिका अदा कर Youth Parliament में my gov पर रजिस्ट्रेशन कर अपना 90 से 120 सेकंड तक का वीडियो अपलोड करे साथ ही
12 से 18 जनवरी तक डिजिटल स्क्रीनिंग और 17 से 19 जनवरी तक रजिस्ट्रेशन कर walk इन द्वारा जिला स्तरीय 25 जनवरी को पेंटिनियम पॉइंट कॉलेज में युवा संसद आयोजन किया जयेगा जिसमे चयनित नोडल केन्द्रों से जिला के बाद  राज्य साथ ही राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिभा का प्रदर्शन करेंगे। साथ ही बताया कि सेवा संस्कृति सदभावना व जागरूकता हमारा मूल मंत्र होना चाहिए।
इस दौरान जिला युवा समन्वयक श्री पियूष सोलंकी जी ने विद्यालय के दिव्यांग छात्र को स्म्रति चिन्ह से सम्मानित किया । मंचीय उद्बोधन में  विशिष्ट अतिथि विद्यालय व्यवस्थापक श्री राजेन्द्र पांडेय जी ने अपने उदबोधन दिया । कार्यक्रम में सर्वप्रथम माँ सरस्वती व विवेकानंद के चित्रपट पर माल्यार्पण कर अथितियों द्वारा कार्यक्रम की शुरुआत की गई कार्यक्रम में सर्वप्रथम मंचासीन अथितियों को स्म्रति चिन्ह शाल श्रीफल से (प्रोग्राम कॉर्डिनेटर) गुंजा शुक्ला , विवेकानंद त्रिपाठी, रवी सिंह ,आकाश शुक्ल ,अनामिका सिंह ,सोनल दाहिया द्वारा सम्मानित किया गया कार्यक्रम के आयोजन के उद्देश्य पर लेखापाल श्री जे आर पाण्डेय जी ने प्रकाश डाला कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में सरस्वती विद्यालय प्राचार्य श्री कपिल देव शुक्ला जी एवं श्री गंगा नारायण अवस्थी जी (शिक्षा विद्) रहे साथ ही श्री त्रिवेदी जी (आचार्य जी ) द्वारा बच्चो को स्वामी विवेकानंद जी के जीवन चरित्र पर बताया गया कार्यक्रम का संचालन श्री हीरालाल तिवारी जी ने किया उक्त क्रम में विद्यालय के छात्र छात्राओं द्वारा भाषण ,चित्रकला, व निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसके मूल केन्द्र बिंदु स्वामी विवेकानंद जी के आदर्शों पर केंद्रित था । इस दौरान विजेता एवं सहभागी प्रतिभागियों को स्म्रति चिन्ह व प्रमाण पत्र से सम्मानित किया गया  जिसमे भाषण प्रतियोगिता में प्रथम रवीश तिवारी द्वितीय अभिलाषा दुबे तृतीय साश्वत शुक्ला चित्रकला में प्रथम शिवि शुक्ला द्वितीय अखिल मिश्रा तृतीय आरुषि सिंह, अदित शुक्ला साथ ही निबंध प्रतियोगिता में शिवि शुक्ला ,प्राची मिश्रा द्वितीय आस्था सिंह अमर पटेल तृतीय रितिक सिंह इस दौरान सभी निणार्यको को व मंच संचालक को भी सम्मानित किया गया अन्त  में कार्यक्रम में आभार प्रदर्शन आनंद युवा मंडल अमेरती के अध्यक्ष विवेकानंद त्रिपाठी द्वारा किया गया इस दौरान कार्यक्रम में गुंजा शुक्ला (प्रोग्राम कॉर्डिनेटर ) राजलाल दाहिया एवं राष्ट्रीय स्वयंसेवक रवी सिंह आकाश शुक्ला दीपेंद्र साकेत शिवेंद्र पटेल पुष्पराज पटेल धर्मपाल जयशवाल अनामिका सिंह सोनाल दाहिया भी उपस्थित रहे।

YOU MIGHT ALSO LIKE

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked ( * ).