You are here:  / रीवा / मीडिया संवाद कार्यशाला में पत्रकारिता के आयामों पर हुई चर्चा

मीडिया संवाद कार्यशाला में पत्रकारिता के आयामों पर हुई चर्चा

समाज को जागरूक करने में पत्रकार सक्रिय भूमिका निभायें – पत्रकार श्री कुशवाह, पत्रकार आम जनता का प्रवक्ता है – पत्रकार श्री शर्मा 

संभागीय जनसंपर्क कार्यालय रीवा द्वारा एक दिवसीय मीडिया कार्यशाला का आयोजन डीपीआईपी सभागार में किया गया। कार्यशाला में पत्रकारिता के विभिन्न आयामों, पत्रकारिता की चुनौतियों तथा विकासपरक पत्रकारिता पर सार्थक चर्चा की गयी। कार्यशाला में भोपाल से आये वरिष्ठ पत्रकार श्री रामभुवन सिंह कुशवाह ने कहा कि समाज को जागरूक करने के लिए पत्रकार सक्रिय भूमिका निभायें। लोकतंत्र के विकास में पत्रकारिता की महत्वपूर्ण भूमिका है। पत्रकार आम जनता के कल्याण को ध्यान में रखकर खबर दें। आम आदमी की बात सरकार तक पहुंचायें। आलोचनाओं के बीच सकारात्मक खबरों पर भी ध्यान दें।
कार्यशाला में पत्रकार श्री सुरेश शर्मा ने कहा कि पत्रकार आम जनता का प्रवक्ता है। लोकतंत्र में पत्रकार को चौथा स्तम्भ कहा जाता है। समय समय पर कार्यपालिका, न्यायपालिका तथा विधायिका अपने श्रेष्ठ होने का तर्क देती हैं। लेकिन संकट आने पर इन्हें भी पत्रकारों के माध्यम से ही अपनी बात आम जनता तक पहुंचानी पड़ती है। पत्रकारों को आम जनता का विश्वास मिला हुआ है। इसलिये यह लोकतंत्र के शेष तीन स्तम्भों से श्रेष्ठ है। आम जनता ने इसे श्रेष्ठ माना है। इसलिये पत्रकारों की जवाबदेही भी जनता के ही प्रति है। पत्रकार भाई खबर और सूचना में अंतर करना सीखें। हर सूचना खबर नहीं होती है। सत्य का अन्वेषण करें। सही तथ्यों के आधार पर खबर दें।
उन्होंने कहा कि पत्रकारों को खबर के लिए कई बार चुनौतियों और दबावों का सामना करना पड़ता है। पत्रकारिता का क्षेत्र संघर्ष निडरता और चुनौतियों का ही है। हमें इनसे घबराना नहीं चाहिये। खबर देने से कई बार सरकार, प्रशासन तथा अन्य समूह रोकने का प्रयास करते हैं। लेकिन यदि जनहित की बात है तो हमें खबर अवश्य देनी चाहिये। उन्होंने कहा कि कई विकास के ऐसे कार्य होते हैं जिनसे जनकल्याण होता है। इन्हें भी समाचारों में स्थान मिलना चाहिये।
श्री शर्मा ने कहा कि मीडिया समाज के कल्याण में भी सक्रिय भूमिका निभा सकता है। अभी बच्चों की परीक्षाएं होने वाली हैं। हम ऐसी खबरों से बचें जो विद्यार्थियों के मन में तनाव पैदा कर उनका ध्यान भटकाती हैं अथवा आत्महत्या के लिए प्रेरित करती हैं। सनसनी अथवा सस्ती लोकप्रियता के लिए खबर नहीं देनी चाहिये। श्री शर्मा ने जल संरक्षण के महत्व पर भी प्रकाश डाला।
कार्यशाला में उप संचालक जनसम्पर्क श्री लक्ष्मण सिंह ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कार्यशाला के उद्देश्यों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि पत्रकारों से सार्थक संवाद के लिए कार्यशाला आयोजित की गई है। इसमें प्राप्त सुझावों को वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया जायेगा। उन्होंने पत्रकार कल्याण, अधिमान्यता नियम, उपचार सहायता तथा श्रद्धानिधि योजना की जानकारी दी। कार्यशाला में पत्रकारों ने प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा पत्रकारों की उपेक्षा करने की बात कही। कार्यशाला में विकास कार्यों का अवलोकन कराने के लिये प्रेस टूर कराने, त्रैमासिक बैठक के आयोजन, पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने तथा तहसील स्तर पर पत्रकार प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित करने का सुझाव दिया। कार्यशाला का संचालन उमेश चन्द्र तिवारी ने किया। कार्यशाला का समापन डॉ. शिव प्रसन्न शुक्ल द्वारा किये गये आभार प्रदर्शन से हुआ।

कार्यशाला मे वरिष्ठ पत्रकार रामेंद्र पांडे ,अजय नारायण त्रिपाठी “अलखू “,राकेश यंगल,विमलेश त्रिपाठी ,हरिप्रकाश सिंह ,उमेश तिवारी ,गयाप्रसाद श्रीवास ,विनोद शुक्ला आदि के साथ मे बड़ी संख्या मे इलेक्ट्रानिक तथा प्रिंट मीडिया के पत्रकार उपस्थित रहे ।

YOU MIGHT ALSO LIKE

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked ( * ).