You are here:  / रीवा / स्व. तिवारी जी का जीवन ज्ञान और कर्म का अद्भुत संगम था – मुख्यमंत्री

स्व. तिवारी जी का जीवन ज्ञान और कर्म का अद्भुत संगम था – मुख्यमंत्री

उद्दोग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने स्व. श्रीयुत श्रीनिवास तिवारी जी को अर्पित की विनम्र श्रद्धांजलि

दादा ने जीवन भर गरीबों तथा वंचितों के लिए संघर्ष किया – मुख्यमंत्री, मुख्यमंत्री ने दिवंगत श्रीयुत श्रीनिवास तिवारी को अर्पित किये श्रद्धा सुमन, मुख्यमंत्री ने रीवा पहुंचकर दी पूर्व विधानसभा अध्यक्ष के परिजनों को सांतवना 

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान प्रात: 9.30 बजे रीवा पहुंचे। मुख्यमंत्री ने दिवंगत पूर्व विधानसभा अध्यक्ष श्रीयुत श्रीनिवास तिवारी को श्रद्धा सुमन अर्पित किये। मुख्यमंत्री सैनिक स्कूल रीवा के हैलीपेड से सीधे श्री तिवारी के निवास स्थान अमहिया पहुंचे उन्होंने श्री तिवारी के पार्थिव शरीर पर पुष्पांजलि अर्पित की। मुख्यमंत्री ने श्री तिवारी के पुत्र एवं विधायक गुढ़ श्री सुन्दरलाल तिवारी तथा पौत्र विवेक तिवारी बावला को सान्त्वना दी।
इस अवसर पर स्व. तिवारी को श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि स्व. श्री तिवारी ने जीवन भर गरीबों तथा वंचितों के लिए संघर्ष किया, उनका जीवन ज्ञान और कर्म का अद्भुत संगम था। उनकी राजनीति की अपनी अनूठी शैली थी, उन्होंने समाजवादी विचारधारा का जीवनभर अनुशरण करते हुए गरीबों के कल्याण के लिए सदा प्रयास किया। दादा स्पष्ट वक्ता थे, अपने दल के बडे नेताओं से भी उचित बात कहने में कभी पीछे नहीं रहते थे। श्री तिवारी को संसदीय परम्पराओं तथा नियमों का गहन ज्ञान था। उन्होंने विधानसभा के उपाध्यक्ष तथा दो बार अध्यक्ष के रूप में शानदार कार्य किया। उन्होंने विपक्ष के विधायकों को भी अपनी बात कहने का पूरा अवसर दिया। ईश्वर दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान दे तथा परिजनों को दु:ख सहने की शक्ति प्रदान करे।

इस अवसर पर उद्योग वाणिज्य तथा खनिज मंत्री श्री राजेंद्र शुक्ल, रघु उद्यम तथा उच्च शिक्षा राज्य मंत्री श्री संजय पाठक, सांसद श्री जर्नादन मिश्र, कमिश्नर एस.के. पाल, कलेक्टर प्रीति मैथिल नायक, पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार, विद्याप्रकाश श्रीवास्तव तथा श्री तिवारी के परिजन एवं बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित रहे।

YOU MIGHT ALSO LIKE

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked ( * ).