समाचार

मुख्यमंत्री ने किया विश्व के सबसे बड़े रीवा सोलर पावर प्लांट का भूमिपूजन


आगामी वर्ष के अंत तक प्रदेश के हर घर में होगी बिजली की सुविधा – मुख्यमंत्री, शीघ्र बनेगा बिजली कटौती करने पर जुर्माना लगाने का कानून – केन्द्रीय ऊर्जा राज्य मंत्री 

रीवा जिले की गुढ़ तहसील में विश्व का सबसे बड़ा सोलर पावर प्लांट स्थापित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने इस सोलर पावर प्लांट का समारोह पूर्वक भूमिपूजन किया। इस प्लांट से 750 मेगावाट बिजली का उत्पादन होगा। यह प्लांट मात्र 2.97 रूपये प्रति यूनिट की लागत से बिजली का उत्पादन करेगा। जो दुनिया में सबसे कम है। समारोह में प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना का भी शुभारम्भ किया गया। समारोह में शासन की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं से हितग्राहियों को स्वीकृत हितलाभ का वितरण मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किया। मुख्यमंत्री ने समारोह में बदवार ग्राम में हायर सेकण्डरी स्कूल खोलने की घोषणा की। समारोह में सौभाग्य योजना की स्मारिका का विमोचन किया गया।

ग्राम बदवार में आयोजित उक्त कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि विश्व का सबसे बड़ा पावर प्लांट रीवा में स्थापित होना हम सबके लिए गर्व की बात है। विंध्य क्षेत्र थर्मल पावर तथा जल विद्युत का केन्द्र होने के साथ-साथअब सोलर पावर का भी केन्द्र बन गया है। पर्यावरण को बिना हानि पहुंचाए हुए दुनिया की सबसे कम दर की सोलर ऊर्जा इस प्लांट से बनेगी। रीवा सोलर प्लांट की ऊर्जा से राजधानी दिल्ली की मैट्रो रेल दौड़ेगी। संयंत्र से सस्ती बिजली मिलने पर घरों को तथा उद्योगों को कम दर पर बिजली मिलेगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने हर घर में बिजली का कनेक्शन देने के लिए सौभाग्य योजना आरम्भ की है। इस योजना से आगामी वर्ष 2018 के दिसम्बर माह तक मध्यप्रदेश के हर घर को बिजली का कनेक्शन दे दिया जायेगा। इस योजना से इस वर्ष रीवा जिले में पांच हजार कनेक्शन दिये जा रहे हैं। ऊर्जा के क्षेत्र में प्रदेश में पिछले पांच वर्षों में दो लाख करोड़ का निवेश हुआ है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश की सरकार गरीबों के कल्याण के लिए लगातार प्रयास कर रही है। हम 24 घंटे बिजली दे रहे हैं। हर गरीब को जमीन पर मालिकाना हक देने के लिए कानून बनाया गया है। इसके तहत रीवा जिले में 15 हजार परिवारों को भू अधिकार पत्र दिया जा रहा है। गरीबों को प्रधानमंत्री आवास योजना से इस वर्ष आठ लाख पक्के आवास दिये जा रहे हैं। इस योजना से अगले तीन वर्ष में हर गरीब के आवास का सपना सच हो जायेगा।
समारोह में मुख्यमंत्री ने शिक्षा के विकास, स्वरोजगार, नि:शुल्क दवा वितरण, महिला सशक्तिकरण तथा भावांतर भुगतान योजना के संबंध में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि विन्ध्य क्षेत्र के किसान मेहनती हैं। यहां बाणसागर बांध से सिंचाई सुविधा मिलने पर किसान हर फसल का अच्छा उत्पादन ले रहे हैं। महिलाओं को वन विभाग को छोड़कर सभी विभागों में 33 प्रतिशत आरक्षण दिया गया है।
समारोह में केन्द्रीय ऊर्जा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) आर.के.सिंह ने कहा कि मध्यप्रदेश की सरकार ने गरीबों के कल्याण तथा प्रदेश के विकास के लिए सराहनीय कार्य किया है। जिस पर केन्द्र सरकार को गर्व है। प्रदेश में 24 घण्टे बिजली दो वर्षों से दी जा रही है। उन्होंने कहा कि मार्च 2019 के बाद बिजली कटौती होने पर जुर्माना लगाने के लिए शीघ्र ही कानून बनाया जा रहा है। रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर प्लांट देश ही नहीं बल्कि दुनिया की सबसे अच्छी सोलर परियोजनाओं में से एक है। समारोह में मध्यप्रदेश के ऊर्जा मंत्री पारस जैन ने कहा कि सोलर प्लांट इस क्षेत्र के लिए बड़ी सौगात है। प्रदेश में सौभाग्य योजना से 42 लाख परिवारों को कनेक्शन दिया जा रहा है। उन्होंने भावांतर योजना तथा फीडर विभक्तिकरण की भी जानकारी दी। समारोह में उद्योग तथा खनिज मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने कहा कि सोलर पावर प्लांट से गैर परम्परागत ऊर्जा को नई दिशा मिलेगी। बदवार की उजाड़, बंजर भूमि पर विश्व का सबसे बड़ा सोलर प्लांट आगामी वर्ष सितम्बर माह तक तैयार हो जायेगा। इससे प्राप्त आय में से 15 करोड़ रूपये की राशि गुढ़ क्षेत्र के विकास में खर्च की जायेगी।
समारोह में अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। ऊर्जा विभाग के प्रमुख सचिव श्री आईसीपी केसरी तथा नवकरणीय ऊर्जा के सचिव मनु श्रीवास्तव ने प्रदेश की ऊर्जा परियोजनाओं की जानकारी दी। समारोह में ऊर्जा विकास निगम के अध्यक्ष विजेन्द्र सिंह सिसोदिया, विन्ध्य विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष सुभाष सिंह, विधायक गुढ़ सुन्दर लाल तिवारी, विधायक सिरमौर दिव्यराज सिंह, विधायक मनगवां शीला त्यागी, पूर्व विधायक नागेन्र्द सिंह तथा पुष्पराज सिंह, प्रबंध संचालक म.प्र.पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी एम.सी. गुप्ता, कमिश्नर एस.के.पॉल, कलेक्टर श्रीमती प्रीति मैथिल नायक, जिला पंचायत उपाध्यक्ष रीवा विभा पटेल,  जिला पंचायत उपाध्यक्ष शहडोल पूर्णिमा तिवारी, विद्या प्रकाश श्रीवास्तव तथा हजारों हितग्राही उपस्थित रहे।

Have any Question or Comment?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

आलेख – अजय नारायण त्रिपाठी

Smiley face

अविस्मरणीय गौरवमयी पल व्हाइट टाइगर सफारी लोकार्पण

मारने वाले से बचाने वाला बडा होता है बचाने वाले से पालने वाला और जो लाए, बचाए, पाले उसकी बडाई का कहना ही क्या। सन 1976 में रीवा से सफेद बाघ का नाता टूट गया था अंतिम बाघ विराट के न रहने पर पूरा विन्ध्य केवल सफेद बाघ की कहानी गायक बन कर रह गया। राजेन्द्र शुक्ल की तब उम्र केवल 12 वर्ष की थी ऐसा बालमन जो कौतूहलो से भरा रहता है जो खेलना चाहता है, घूमना चाहता है, प्रकृति को आष्चर्य भरी निगाहों से निहारता है और फिर सवाल उठाता है बारिस क्यो होती है? इसका पानी कहां जाता है? बीज से पेड़ कैसे बनते है? जंगल क्यो है? जीव जन्तु क्यो जरूरी है? इन्द्रधनुष कैसे बनता है? पेड़ हरे क्यो हैं? इन सब सवालो के जबाव स्कूलो में मिलने की उम्र भी यह है। इस अवस्था में प्रकृति प्रेमी इस बच्चे ने यह जाना की हमारा क्षेत्र जो सफेद बाघ के गौरव से परिपूर्ण था अब वह विहीन हो चुका है। हम अब कभी सफेद बाघ इस क्षेत्र में नही देख पायेगें सफेद बाघ कैसा होता है अब यह केवल चित्रों के माध्यम से दूसरो को बता पायेंगे या फिर अन्य जगहांे पर जा कर देख पायेगें जहां पर यहीं के सफेद बाघ भेज दिए गए हैं। .. आगे पढ़ें


SuperWebTricks Loading...