समाचार

मुख्यमंत्री करेंगे सोलर प्लांट का शिलान्यास तथा सौभाग्य योजना का शुभारंभ


उद्दोग मंत्री श्री  राजेन्द्र शुक्ल द्वारा विंध्य को अनुपम सौगात । विश्व मे रीवा के बनेगी पहचान । निर्मित हो रहा है विश्व का सबसे बड़ा सौर ऊर्जा प्लांट ।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 22 दिसम्बर को एक दिवसीय प्रवास पर रीवा आयेंगे। मुख्यमंत्री प्रातः 11:05 बजे भोपाल से प्रस्थान कर दोपहर 12:05 बजे हवाई पट्टी रीवा पहुंचेंगे। इसके बाद मुख्यमंत्री ग्राम बदवार पहुंचकर रीवा अल्ट्रा मेगा सौर परियोजना का मुख्य अतिथि के रूप में शिलान्यास करेंगे। मुख्यमंत्री बदवार में ही प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर सौभाग्य योजना का समारोह पूर्वक शुभारंभ करेंगे। मुख्यमंत्री बदवार में आयोजित खण्ड स्तरीय अंत्योदय मेले में विभिन्न योजनाओं से लाभान्वित हितग्राहियों को हितलाभ का वितरण भी करेंगे। समारोह की अध्यक्षता केंद्रीय ऊर्जा एवं नवकरणीय ऊर्जा राज्य मंत्री श्री आरके सिंह करेंगे। समारोह में विशिष्ट अतिथि के रूप में मप्र शासन के ऊर्जा एवं नवकरणीय ऊर्जा मंत्री श्री पारसचंद्र जैन, खनिज एवं वाणिज्य तथा उद्योग मंत्री श्री राजेंद्र शुक्ल तथा रीवा जिले के प्रभारी मंत्री श्री नरोत्तम मिश्रा जल संसाधन जनसंपर्क एवं संसदीय कार्य मंत्री शामिल होंगे। समारोह में सांसद श्री जर्नादन मिश्रा, अध्यक्ष मप्र ऊर्जा विकास निगम विजेंद्र सिंह सिसोदिया तथा विधायक गुढ़ सुंदरलाल तिवारी विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल होंगे।

Have any Question or Comment?

One comment on “मुख्यमंत्री करेंगे सोलर प्लांट का शिलान्यास तथा सौभाग्य योजना का शुभारंभ

Dileep pandey

Jay ho bahot khushi ki baat hi rewa me solar mega plant ka subharambh hone ja rha hi jai hind

Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

आलेख – अजय नारायण त्रिपाठी

Smiley face

अविस्मरणीय गौरवमयी पल व्हाइट टाइगर सफारी लोकार्पण

मारने वाले से बचाने वाला बडा होता है बचाने वाले से पालने वाला और जो लाए, बचाए, पाले उसकी बडाई का कहना ही क्या। सन 1976 में रीवा से सफेद बाघ का नाता टूट गया था अंतिम बाघ विराट के न रहने पर पूरा विन्ध्य केवल सफेद बाघ की कहानी गायक बन कर रह गया। राजेन्द्र शुक्ल की तब उम्र केवल 12 वर्ष की थी ऐसा बालमन जो कौतूहलो से भरा रहता है जो खेलना चाहता है, घूमना चाहता है, प्रकृति को आष्चर्य भरी निगाहों से निहारता है और फिर सवाल उठाता है बारिस क्यो होती है? इसका पानी कहां जाता है? बीज से पेड़ कैसे बनते है? जंगल क्यो है? जीव जन्तु क्यो जरूरी है? इन्द्रधनुष कैसे बनता है? पेड़ हरे क्यो हैं? इन सब सवालो के जबाव स्कूलो में मिलने की उम्र भी यह है। इस अवस्था में प्रकृति प्रेमी इस बच्चे ने यह जाना की हमारा क्षेत्र जो सफेद बाघ के गौरव से परिपूर्ण था अब वह विहीन हो चुका है। हम अब कभी सफेद बाघ इस क्षेत्र में नही देख पायेगें सफेद बाघ कैसा होता है अब यह केवल चित्रों के माध्यम से दूसरो को बता पायेंगे या फिर अन्य जगहांे पर जा कर देख पायेगें जहां पर यहीं के सफेद बाघ भेज दिए गए हैं। .. आगे पढ़ें


SuperWebTricks Loading...