समाचार

Rewa Railway Station Approach Road to Become Four Lane


rewa4032017b1Minister Shri Shukl Holds Reviews in Rewa

March 4, 2017

With efforts of Minister for Commerce, Industries and Employment Shri Rajendra Shukl, Rewa railway station approach road will be made four lane. Approach road from National Highway 7 to Rewa railway station will be converted into four lane from two lane. Road divider will be constructed and electricity will be ensured installing central pole. Shri Shukl was reviewing with the Railway Officers today.

Shri Shukl said that smooth traffic facility will be made available to the citizens after construction of four lane road to reach railway station and there will be no traffic jam. He further said that path way to be constructed on both sides of the road will facilitate people to walk freely. Central poles will be erected for light in this road.

Shri Shukl also apprised himself about the update progress of Rewa-Singrauli railway line. He gave necessary directive sin this regard.

It was informed that at the initiative of Shri Shukl four lane road costing around Rs. 2 crore 75 lakh from N.H. 7 will be constructed. Work to make tunnel after Govindgarh in the way of railway line between Rewa to Sidhi will begin shortly. Also, houses will be constructed for railways employees in Rewa, Silpara and Govindgarh.

Have any Question or Comment?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

आलेख – अजय नारायण त्रिपाठी

Smiley face

अविस्मरणीय गौरवमयी पल व्हाइट टाइगर सफारी लोकार्पण

मारने वाले से बचाने वाला बडा होता है बचाने वाले से पालने वाला और जो लाए, बचाए, पाले उसकी बडाई का कहना ही क्या। सन 1976 में रीवा से सफेद बाघ का नाता टूट गया था अंतिम बाघ विराट के न रहने पर पूरा विन्ध्य केवल सफेद बाघ की कहानी गायक बन कर रह गया। राजेन्द्र शुक्ल की तब उम्र केवल 12 वर्ष की थी ऐसा बालमन जो कौतूहलो से भरा रहता है जो खेलना चाहता है, घूमना चाहता है, प्रकृति को आष्चर्य भरी निगाहों से निहारता है और फिर सवाल उठाता है बारिस क्यो होती है? इसका पानी कहां जाता है? बीज से पेड़ कैसे बनते है? जंगल क्यो है? जीव जन्तु क्यो जरूरी है? इन्द्रधनुष कैसे बनता है? पेड़ हरे क्यो हैं? इन सब सवालो के जबाव स्कूलो में मिलने की उम्र भी यह है। इस अवस्था में प्रकृति प्रेमी इस बच्चे ने यह जाना की हमारा क्षेत्र जो सफेद बाघ के गौरव से परिपूर्ण था अब वह विहीन हो चुका है। हम अब कभी सफेद बाघ इस क्षेत्र में नही देख पायेगें सफेद बाघ कैसा होता है अब यह केवल चित्रों के माध्यम से दूसरो को बता पायेंगे या फिर अन्य जगहांे पर जा कर देख पायेगें जहां पर यहीं के सफेद बाघ भेज दिए गए हैं। .. आगे पढ़ें


SuperWebTricks Loading...